Ips Manoj Kumar Sharma Biography in Hindi

मनोज कुमार शर्मा का जीवन परिचय (जन्म तारीख, जन्म स्थान, शिक्षा, उम्र, धर्म, जाति, माता का नाम, पिता का नाम, कैरियर, आईपीएस ऑफिसर) (Ips Manoj Kumar Sharma Biography in hindi) (Age, Caste, Family, date of birth, wiki, education, UPSC, IPS Officer)

मनोज शर्मा जीवन परिचय: दोस्तों आज हम आपको एक ऐसे व्यक्ति की कहानी बताने जा रहे है जिसे सुनकर आप लाइफ में गिव अप करने से पहले सौ बार सोचोगे। अगर आप उन लोगो में से है जो छोटी छोटी असफलताओ से निराश हो जाते है तो आपके लिए आईपीएस मनोज शर्मा का जीवन प्रेरणादाई होने वाला है। मनोज एक ऐसा व्यक्ति था जो 12वी कक्षा में फेल होने के बावजूद भी कभी हार नहीं मानी और इतनी कड़ी मेहनत की की भारत का नंबर 1 एग्जाम UPSC क्लियर कर दिया और बन गया आईपीएस (IPS)ऑफिसर।

इनके जीवन पर अनुराग पाठक द्वारा बुक भी लिखी गयी है जिसका नाम 12वी फेल है। और हाल ही में इनके जीवन पर एक फिल्म भी बनाई गयी है। तो चलिए आज के इस आर्टिकल में हम आपको Ips Manoj Kumar Sharma Biography in Hindi के बारे में बताने वाले है और उनके जीवन से जुडी सभी छोटी बड़ी घटनाओ पर भी चर्चा करेंगे।

Ips Manoj Kumar Sharma Biography in Hindi

नाम मनोज कुमार शर्मा
जन्म की तारीख 3 जुलाई 1975
आयु (2023 तक)48 वर्ष
जन्म स्थान बिलग्राम, मध्य प्रदेश के मुरैना जिले
सेवा भारतीय पुलिस सेवा आईपीएस
आईएएस रैंक 121
वर्तमान पोस्टिंग मुंबई पुलिस में सहायक पुलिस आयुक्त { Additional Commissioner } के पद पर कार्यरत है।
वैवाहिक स्थिति विवाहित
अफेयर्स/गर्लफ्रेंड श्र्द्धा जोशी शर्मा ( IRS अधिकारी)

आईपीएस मनोज कुमार शर्मा कौन है ?

मनोज कुमार शर्मा का जन्म 3 JULY 1975 को हुआ था वह महाराष्ट्र कैडर 2005 बैच के ऑफिसर है। आपने हाल ही में एक चर्चित फिल्म 2वी फेल का नाम सुना होगा, यह फिल्म इनके वास्तविक जीवन पर बनी है। इन्होने अपने जीवन में बहुत ज्यादा गरीबी देखी है यहाँ तक की इन्होने कई बार भैसों के बाड़े में सोकर रात गुजारी है। जीवन में बहुत ज्यादा मेहनत की है यहाँ तक की यह 12वी कक्षा में फेल भी हो गए थे लेकिन कभी हार नहीं मानी और संघर्ष करते रहे और बन गए आईपीएस ऑफिसर।

Ips Manoj Kumar Sharma

मनोज कुमार शर्मा का जन्म

मनोज कुमार शर्मा का जन्म 3 JULY 1975 को मध्यप्रदेश के मोरेना जिले के बिलग्राम में हुआ था। इनके पिता का नाम रामवीर शर्मा है जो की एक किसान है। इनकी माँ का इनके जीवन में बहुत अधिक रोल है क्युकी उन्होंने इनके जीवन के हर मोड़ पर इनका साथ दिया। यह बहुत ही गरीब परिवार से थे जिसके चलते इन्होने अपने जीवन में बहुत अधिक संघर्ष किया।

मनोज कुमार शर्मा का परिवार

पत्नी का नाम श्रद्धा जोशी शर्मा
बच्चों का नाम बेटा : मानस शर्मा
बेटी : चिया शर्मा
पिता का नाम रामवीर शर्मा
माता का नाम − − − − − −
भाई/बहन एक भाई एक बहन

मनोज कुमार शर्मा की पढाई

मनोज कुमार शर्मा बचपन से ही पढाई में बहुत कमज़ोर थे उन्होंने 8वी तक की पढाई अपने गाँव के ही सरकारी स्कूल से पास की थी। इसके बाद उन्होंने 9वी और 10वी कक्षा चीटिंग के सहारे 3rd डिवीज़न से पास की। इसके बाद उनका एडमिशन लक्ष्मी बाई गवर्नमेंट कॉलेज, ग्वालियर में हुआ वहां से उन्होंने जैसे तैसे करकर 11वी कक्षा भी 3rd डिवीज़न से पास की।

12वी क्लास के पेपर में उन्हें नक़ल करने का मौका नहीं मिला क्युकी SDM अधिकारी के ने स्कूलों और कानून प्रवर्तन को निर्देश दिया की छात्रों पर कड़ी निगरानी रखें ताकि नकल न हो सके। जिसके चलते वहां नकल नहीं हो पाई और मनोज शर्मा के साथ साथ बहुत बच्चे 12वी कक्षा में फेल हो गए।

सभी छात्र SDM पर गुस्सा थे की ऐसा कोनसा व्यक्ति है जिसके सामने अध्यापक कुछ नहीं कर सके। लेकिन इस घटना (SDM) से मनोज शर्मा बहुत प्रभावित हुए और फिर से 12वी कक्षा के पेपर देना का निर्णय किया और पास भी हो गए। इसके बाद उन्होंने अपनी B.A की पढाई पूरी की।

मनोज कुमार शर्मा का प्रारंभिक जीवन से आईपीएस तक का सफर

मनोज कुमार शर्मा का जन्म मध्य प्रदेश के विलगाव में एक गरीब हिंदू परिवार में हुआ था। उनका जीवन बहुत की कठिनायों से बिता है, वह बताते है की उनका परिवार इतना गरीब था की घर पर छत डालने तक के पैसे नहीं थे। उनके जीवन में ऐसे भी दिन आये है की कई रातें सड़क पर बितानी पड़ी है।

जब यह 12वी कक्षा में थे तब मध्य प्रदेश के मुरैना में एक नए एसडीएम की नियुक्ति हुई, जिन्होंने स्कूलों और कानून प्रवर्तन को निर्देश दिया की छात्रों पर कड़ी निगरानी रखें ताकि नकल न हो सके। जिसके चलते वह 12वीं कक्षा में फेल हो गए। अधिकारियो को एसडीएम के निर्देशों का पालन करते देखने के बाद,  इन्होने भी एसडीएम बनने का निश्चय किया। और अपने परिवार को गरीबी से बाहर निकालने का फैसला लिए।

Ips Manoj Kumar Sharma Biography in Hindi

अपनी स्कूली शिक्षा पूरी करने के बाद वह मध्य प्रदेश के ग्वालियर शहर चले गए। जब वह अपने घर से ग्वालीर के लिए निकले थे तब उनके जेब में सिर्फ 500 रूपए और एक कपड़े से भरा बैग था। वहां उन्होंने स्नातक की पढ़ाई के लिए महारानी लक्ष्मी बाई गवर्नमेंट कॉलेज ऑफ एक्सीलेंस में दाखिला लिया। घर वालों से पैसा न मिलने पर ग्वालियर में ऑटो रिक्शा चलाने का काम करने लगे और साथ में पीसीएस परीक्षा की भी तैयारी करना शुरू कर दिया।

कुछ सालों तक ग्वालियर में काम करने के बाद वह नई दिल्ली चले गए, जहाँ वे मुखर्जी नगर में रहने लगे। दिल्ली में, आजीविका चलाने के लिए, वह मुखर्जी नगर के एक अमीर परिवार के पालतू कुत्ते को घूमाने के लिए 400 रुपये में नौकरी करने लगे।

इसके बाद उन्होंने एक पुस्तकालय में 300 रुपये के मासिक वेतन पर चपरासी के रूप में काम करना शुरू कर दिया। जिससे की  लाइब्रेरी में काम करने से उन्हें बहुत मदद मिली क्योंकि इससे उन्हें उन किताबों तक पहुंच मिल गई जिन्हें वह पहले खरीद और पढ़ नहीं पाते थे। इसके साथ ही वह वॉशरूम क्लीनर की भी नौकरी की।

उन्होंने पहले ही प्रयास में प्रीलिम्स पास कर लिया, लेकिन मुख्य परीक्षा में फ़ैल हो गए इसके बाद दूसरे और तीसरे प्रयास में उनका प्रदर्शन खराब रहा जिससे की वह प्रारंभिक परीक्षा उत्तीर्ण करने में भी असफल रहे। लेकिन उन्होंने कभी हार नहीं मानी और उनके मन में कुछ कर गुजरने का जज्बा था जिसके चलते मनोज ने अपने चौथे प्रयास में यूपीएससी सीएसई का एग्जाम पास किया और रैंक 121 (AIR) हासिल की। ​​

चौथे प्रयास में सफल हुए मनोज कुमार शर्मा

मनोज कुमार शर्मा ने सिविल सर्विस एग्जाम के लिए बहुत अधिक संघर्ष किया लेकिन वह पहले, दूसरे और तीसरे प्रयास में फेल हो गए। लेकिन कभी हार नहीं मानी और चौथे प्रयास में यूपीएससी सीएसई का एग्जाम पास किया और रैंक 121 (AIR) हासिल की। ​​और बन गए आईपीएस अफसर अभी फिलहाल वह मुंबई पुलिस में एडिशनल कमिश्नर की पोस्ट पर तैनात है।

मनोज कुमार शर्मा गर्लफ्रेंड

जब मनोज कुमार शर्मा विकास दिव्यकीर्ति सर की इंस्टिट्यूट दृष्टि आईएएस से कोचिंग कर रहे थे तो उनकी मुलाकात श्रद्धा जोशी से हुई। यह दोनों एक ही कोचिंग में पढ़ते थे जिसके कारण इनकी दोस्ती हो गयी। लेकिन कब यह दोस्ती प्यार में बदल गयी पता ही नहीं चला, और UPSC की ट्रेनिंग के बाद दोनों ने शादी कर ली।

मनोज शर्मा बताते है की वह हर जगह से फेल हो गए थे लेकिन उन्होंने कभी हार नहीं मानी। उन्होंने अपनी गर्लफ्रेंड को परपोज़ किया तब कहा की तुम एक बार हां कह दो, मै यह संसार तुम्हारी थाली में लेकर रख दूंगा।

अन्य पढ़े : डॉ विकास दिव्यकीर्ति का जीवन परिचय

मनोज कुमार शर्मा के जीवन से जुडी कुछ रोचक जानकारियां

  • शुरुआती पढ़ाई के दौरान मनोज अपनी क्लास के सभी छात्रों में सबसे कमजोर थे। वह कक्षा 9वीं और 10वीं में तृतीय श्रेणी से पास हुए। लेकिन 12वी कक्षा में वह बिलकुल फ़ैल हो गए।
  • मनोज कुमार शर्मा महाराष्ट्र कैडर के 2005 बैच के आईपीएस अधिकारी हैं। अक्टूबर 2023 में उनकी लाइफ स्टोरी और स्ट्रगल पर विधु विनोद चोपड़ा ने “12वीं फेल” फिल्म बनाई थी।
  • मनोज कुमार ने अपने चौथे प्रयास में यूपीएससी सीएसई का एग्जाम पास किया और अखिल भारतीय रैंक 121 (AIR) हासिल की। 
  • हाल ही में मनोज शर्मा मुंबई पुलिस में एडिशनल कमिसनर (Additional Commissioner) की पोस्ट पर काम कर रहे है।
  • वह कहते है की मेरी कहानी आज के युवावो के लिए है जो फेल होने के बाद पढाई छोड़ देते है। ऐसे लोगों से सीख लेनी चाहिए की आगे की असफलता ही आपको बड़ी सफलता तक ले जा सकती है।

Leave a comment